Sad Status for whatsapp in hindi


परवरिश का फर्क है साहब,
अजमेर आने वालो पे…
फूल बरसते है,

और अमरनाथ जाने वालो पे…
पत्थर और गोलियां…!!

नाराज़गी आपसे नहीं…
अपनेआप से है मुझे….
कि आपके दिल में इतनी भी जगह नहीं बना पाये हम
कि आप अपना समझ कर हमसे अपने दिल की बात कह सको !
नीँद को इंतजार की आदत न डालो …. जो रूठ गई तो मुश्किल होगी … !!
कुछ दर्द होना ही चाहिए जिंदगी में, ज़िंदा होने का अनुमान बना रहता है..
*कभी तो अपनी मौजूदगी का एहसास दिला दिया करो….!!*
*थक गए हैं इंतजार करते-करते….!!*
*भीगने की मज़ा तो तब हैं जब मेरे यार सामने हों,*
*फिर बरसात आसमां से हो या आँखों से क्या फर्क पड़ते हैं*
*हम तो फूलों की तरह,*
*अपनी आदत से बेबस हैं…!*
*तोडने वाले को भी,*
*खुशबू की सजा देते हैं..!!*
हम से खेलती रही दुनिया ताश के पत्तो की तरह, जिसने जीता उसने भी फेका जिसने हारा उसने भी फेका..
हम तो बेज़ान चीज़ों से भी वफ़ा करते हैं, तुझमे तो फिर भी मेरी जान बसी है..
सपने अपलोड तो तुरंत हो जाते है, डाऊनलोड करने मे जिंदगी निकल जाती है..
शिकवा तो बहुत है मगर शिकायत नही कर सकता, मेरे होंठों को इजाजत नहीं तेरे खिलाफ बोलने की..
रखते हो शौक तो आओ मैदान मे, कुछ हमने गवाया है कुछ तुम भी गवां लो..
भले ही चले जाओ दूर हमसे, तेरी यादों को हमनें महफूज़ रखा है, लौटकर आओगे उम्मीद है दिल को, दरवाजा इस दिल का खुला रखा है..
बेक़सूर कौन होता हैं इस ज़माने में.. बस सबके गुनाह पता नहीं चलते..
बुरा वक्त सब पर आता है, काेइ बिखर जाता है, ताे काेइ निखर जाता है..
ना जाने इस ज़िद का नतीज़ा क्या होगा.. समझता दिल भी नहीँ वो भी नहीँ मैँ भी नहीँ..
ना कर जिद अपनी हद में रह ए दिल, वो बड़े लोग हैं अपनी मर्ज़ी से याद करते है..
तेरी नाराज़गी वाजिब है दोस्त.. मैं भी खुद से खुश नहीं आजकल..
तुमने मुझे छोङ दिया चलो कोई बात नहीँ लेकिन, जिसके लिए मुझे छोङा है, उसे कभी मत छोङना..
तन्हाइयो मै बैठ कर, तुम सोचते हो क्या ; कुछ हमे भी बताओ, परेशान हम भी है..

What's Your Reaction?

LIKE LIKE
2
LIKE
DISLIKE DISLIKE
2
DISLIKE